बिग बी के बड़े जवाब

amitab bachhanस्टार ऑफ द मिलेनियम अमिताभ बच्चन ने अपनी पहली पारी में तो इंटरव्यू देने से लगातार गुरेज किया। दूसरी पारी में कम ही लोगों को निराश किया।बिग बी द्वारा दिए गए कई साक्षात्कारों में से चुनिंदा अंशों को हमने उनकी सालगिरह के मौके पर संकलित कर एक बड़े इंटरव्यू का रूप दिया है।उनके फिल्मी और असली जीवन के विभिन्न पहलुओं को जानने में हमारा यह प्रयास शायद आपको पसंद आएगा।

बचपन

सवाल: अपने बचपन के बारे में बताइए।
जवाब: पचास-साठ साल पहले मान्यता थी कि अच्छे परिवार के बच्चों को फिल्में नहीं देखना चाहिए। हम घर से दो-चार आने चुराकर बिना बताए फिल्म देखने जाया करते थे। बचपन में मैं बहुत शर्मीले स्वभाव का था। आगे चलकर फिल्मों के प्रति लगाव लगातार बढ़ता गया।

पसंदीदा रोल

सवाल: अपना कौनसा किरदार आपको सबसे ज्यादा पसंद है?
जवाब: यह बता पाना बहुत ही मुश्किल है। मैं अपने कैरियर को चार खास चरणों में रखकर देखता हूं। पहले चरण में ख्वाजा अहमद अब्बास और ऋषिकेश मुखर्जी द्वारा बनाई गई फिल्में हैं। इसके बाद सलीम-जावेद द्वारा लिखी गई फिल्में। फिर तकनीकी रूप से अधिक समृद्ध मुकुल आनंद और टीनू आनंद जैसे निर्देशकों की फिल्में। आखिर में आदित्य चोपड़ा और करन जौहर जैसे युवा पीढ़ी के निर्देशकों की फिल्में।

बढ़ती उम्र

सवाल: हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में परंपरा रही है कि एक निश्चित उम्र के बाद अभिनेता को केंद्रीय भूमिका नहीं मिलती। आपके मामले में ऐसा नहीं है।
जवाब: बॉलीवुड के इस बदलाव के बारे में मैंने कभी कुछ नहीं सोचा था। मैं अपने आपको खुशकिस्मत मानता हूं कि मुझे ऐसी बेहतर फिल्में मिलीं। लगता है दर्शक मुझे अभी भी झेलने के लिए तैयार हैं।

इन दिनों डॉयलॉग याद करने में मुझे पहले से ज्यादा वक्त लगता है।
मेरा शरीर अब मुझे ज्यादा एक्शन सीन की इजाजत नहीं देता। मगर दिल से मैं जवान हूं। फिल्म ‘आंखें’ में मैंने कुछ एक्शन सीन किए हैं।20 साल पहले मैं जितना काम किया करता था, उससे ज्यादा काम आज करता हूं।

नए दौर के कलाकार

सवाल: आजकल के कलाकारों में काम के प्रति समर्पण कैसा है?
जवाब: वह भी पूरे समर्पण और मेहनत के साथ काम करते हैं। काम करने का तरीका अलग-अलग हो सकता है। मुझे लगातार नौजवानों के साथ काम करने का मौका मिलता है। सेट्स पर मैं उनसे दोस्त की तरह व्यवहार करता हूं।

बॉलीवुड का भविष्य

सवाल: फिल्म कारोबार का आप क्या भविष्य देखते हैं?
जवाब: यह एक विशाल उद्योग बन चुका है। भारतीय फिल्मों का बाजार अंतराष्ट्रीय स्तर पर फैल चुका है। आने वाले सालों में इसमें लगातार वृद्धि होगी। फिल्म इंडस्ट्री दुनिया की तीन बड़ी इंडस्ट्रीज में शामिल होगी। फिलहाल हॉलीवुड अमेरिका में राजस्व का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत है। हिंदी फिल्मों का कारोबार भी बड़ा आकार ले रहा है। दुनिया का हर छठा व्यक्ति भारतीय है, इसका हमें लाभ होगा।

बिग बी बनाम जूनियर बी

सवाल: आप अभिषेक को मार्गदर्शन देते हैं?
जवाब: मैं सामान्य तौर पर उसे सिर्फ उतनी ही सलाह देता हूं जितनी कि एक पिता अपने बेटे को देता है। उसकी कोई फिल्म देखने के बाद अभिनय में किसी सुधार की गुंजाइश नजर आती है तो बताता हूं। अभिषेक खुद एक इंटैलीजेंट लड़का है और अपनी सही पसंद-नापसंद तय करने में सक्षम है।

अफसोस..

सवाल: जिंदगी में किसी बात का अफसोस?
जवाब: सबसे बड़ा अफसोस इस बात का है कि मेरे बच्चे जब बड़े हो रहे थे तब मैं उनके साथ नहीं था। उस दौर में मैं सुबह से रात तक काम कर रहा था। मैं जब घर से निकलता और वापस घर पहुंचता तब वे सो रहे होते थे। जया इस मामले में खुशकिस्मत रहीं। जब मैं राजनीति में आया तब मेरे बच्चों को सुरक्षा की वजह से सामान्य जीवन जीने में काफी परेशानी आई।

क्या पाया अब तक

सवाल: अपनी उपलब्धियों से संतुष्ट हैं?
जवाब: कैरियर को लेकर जिंदगी में किसी मुकाम पर मैं निश्चिंत नहीं रहा हूं। मगर इस बात की मुझे खुशी है कि मैंने अपने कैरियर में 30 साल का सफर पूरा किया है। बतौर अभिनेता मैं बिल्कुल संतुष्ट नहीं हूं। जिस दिन मैं संतुष्ट हो जाऊंगा, एक अदाकार के रूप में मेरा विकास रुक जाएगा। मुझे अभी भी चुनौतियों की खोज है। मुझे अभी कई परीक्षाएं पास करनी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *